28.04.2021

रहबर से होकर जुदा

अपनी ही राह बनाते है।

सहर की ख्वाहिश छोड़

हर शाम बसर करते है ।

फज़ा से रश्क किए बैठे है

चाँद को दिल दिए बैठे है ।

मायूस दिल के अफसाने

मुस्कुराना भूल गए है।

🍁

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s